December 4, 2020

आधी रात को अस्पतालों के चक्कर लगाते रहे परिजन, प्रेग्नेंट महिला की ऑटो में मौत

 

लॉकडाउन के चलते पूरी दुनियां ठप पड़ी है और इसी बीच कई सारी ऐसी कहानियां सामने जो लोगों के लिए मानवता की एक मिसाल है। वहीं कई ऐसी भयानक तस्वीरें सामने आई जिसके निर्मम चेहरे को सबके सामने उजागर हो गया। आज हम आपको उसी सब एक ऐसे ही एक घटना के बारे में बताने जा रहे है जो पूरी मानवता को शर्मसार कर देने वाली है। आपको बता कि महाराष्ट्र में सबसे अधिक कोरोना प्रकोप है वहीं मुंबई में अस्पताल की एक और बड़ी लापरवाही सामने आई है जिसकी वहज से एक प्रेग्नेंट महिला की मौत हो गई। मिली जानकारी के मुताबिक मुंबई के मुंब्रा में कुछ दिन पहले एक प्रेग्नेंट महिला ने अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया जिसकी वजह से महिला ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। मृतक महिला का नाम महक खान है। महक पेट दर्द की पीड़ा से परेशान थी. जिसके बाद उसे ऑटो में बैठाकर अस्पताल ले जाया गया। लेकिन अस्पताल ने मरीज को भर्ती करने से इनकार कर दिया। वहीं परिजन इसी तरह गर्भवती महिला को ऑटो में बैठाकर दो और अस्पताल भी ले गए। और चौथे अस्पताल के लिए जाते हुए ऑटो के अंदर ही उस महिला ने दम तोड़ दिया।

बीजेपी नेता राम कदम ने इस घटना को लेकर उद्धव सरकार पर निशाना साधा और कहा कि यह घटना काफी चैंकाने वाला और दुर्भाग्यपूर्ण है। एक प्रेग्नेंट महिला अस्पतालों के चक्कर काटती रही और आखिरकार ऑटो के अंदर ही उसकी मौत हो गई। किसी अस्पताल ने उस महिला को भर्ती नहीं किया। महाराष्ट्र सरकार से हम पहले भी इस संबंध में कई बार अपील कर चुके हैं लेकिन अब तक कुछ नहीं हुआ। मुंबई के लोगों को अस्पतालों में बेड तक नहीं मिल रहा है और लोग सड़क पर मर रहे हैं. यह पूरी तरह से प्रदेश सरकार की लापरवाही है बीजेपी नेता ने इस घटना की एक वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया है। उन्होंने लिखा कि एक गर्भवती महिला बच्चे को जन्म देने से पहले 2 घंटे तक एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल का चक्कर काटती रही और अंत दम में महिला ने सड़क पर रिक्श में ही दम तोड़ दिया? इस घटना को लेकर परिवारवालों ने तीनों अस्पताल के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। फिलहाल मुंबई पुलिस ने शिकायत दर्ज कर आगे की कारवाई शुरू कर दी है।

Amritanjali Rai

Facebook Comments