February 27, 2021

कोरोना नाजाने कितने लोगों की लेगा जान

corona

corona

कोरोना नाजाने कितने लोगों की लेगा जान
इस कोरोना महामारी मे जितना लोग बच बच के चल रहे है हादसे उतने बढ़ते जा रहे है बहुत दुख के साथ कहना पढ़ रहा है की देश मे से कोरोना की वजह से बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी से तो ये मजदूर लोग ऐसे ही परेशान थे। अब मजदूरों को अपनी जान भी गवानी पढ़ रही है
उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में प्रवासी मजदूरों के साथ हुए सड़क हादसे से लोग संभले नही थे अब मध्यप्रदेश के सागर जिले में भी एक भीषण सड़क घटना देखने को मिला है. इस सड़क हादसे में पांच प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई है और लगभग 15 लोग घायल हो गए है।
बताया जा रहा है कि प्रवासी मजदूरों को ले जा रहा ट्रक रास्ते में पलट गया, जिससे इन मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई। एएसपी प्रवीण भूरिया ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि ये मजदूर महाराष्ट्र से उत्तर प्रदेश जा रहे थे। ये सभी मजदूर उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर के रहने वाले हैं।
घटना की सूचना मिलते ही पुलिस और एंबुलेंस घटनास्थल पर पहुंची। घायलों को इलाज के लिए अभी इनको अस्पताल भेज दिया गया है। साथ ही राहत और बचाव का काम जारी है। मिली जानकारी के अनुसार, मरने वालों में तीन महिलाएं और दो पुरुष शामिल हैं। ये लोग ट्रक में परिवार संग घर जा रहे थे।
बताया गया है कि ट्रक में बड़ी संख्या में छोटे बच्चे भी सवार थे।
जिसके बाद सड़क दुर्घटना की खबर मिलते ही स्थानीय लोग वहां मौके पर पहुंचे । और उन्होंने घटना की जानकारी पुलिस को दी। साथ ही पुलिस के साथ मिलकर घायलों की मदद की।
वहीं, सागर जिले के शाहगढ़ में भी एक और सड़क दुर्घटना हुई। जहां प्रवासी मजदूरों से भरी पिकअप पलटने से उसमें यात्रा कर रहे 24 लोग घायल हो गए। इनमें से पांच की हालत गंभीर बताई जा रही है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची है और घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है। बता दें गंभीर रूप से घायल लोगों को छतरपुर जिला अस्पताल भेजा गया है।
तो वही घायल मजदूरों का इलाज शाहगढ़ स्वास्थ्य केंद्र में चल रहा है।
इस घटना को सुन कर तो ऐसा प्रतीत होता है कि हमारे देश मे कोरोना से कम लोग, दुर्घटना से ज्यादा मर रहे, इन मजदूरों के परिवारों पर जो बीत रही होगी यह परिवार ही समझ सकते हैं किसी ने अपना बेटा खोया है तो किसी ने अपना पति अपना भाई खोया है तो किसी ने अपना पिता, अब कैसे चलेगा इन मजदूरों का घर? कौन पालेगा मजदूरों के परिवार का पेट देखते हैं कि हमारी प्रशासन इनके लिए क्या करते हैं।
प्रिया झा

Facebook Comments