March 8, 2021

मजदूरों को लेकर एक्शन में आईं कांग्रेस

लॉकडाउन के बीच एक्शन में आयी कांग्रेस
कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के बीच देश में जारी आर्थिक मंदी और मजदूरों की बदहाली को लेकर देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस अब फुल एक्शन में नजर आने लगी है। शनिवार को औरैया हादसे पर केंद्र और राज्य सरकार को घेरने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए देश के सामने अपनी बात रखी। राहुल गांधी ने केंद्र सरकार के 20 लाख करोड़ के राहत पैकेज, कोरोना के दौरान मजदूरों की समस्या और देश के आर्थिक हालात पर बातचीत की। और केंद्र सरकार को कई अहम सुझाव दिए। राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को आगाह करते कहा कि देश में आर्थिक तूफान अभी आया नहीं है, आने वाला है। बहुत जबरदस्त नुकसान होने वाला है। हम चाहते हैं कि सरकार हमारी सुने। हम यानी विपक्ष थोड़ा दबाव डाले और अच्छी तरह से समझाए तो सरकार सुन भी लेगी। सड़कों पर पैदल चल रहे बेहाल मजदूरों का मुद्दा उठाते हुए राहुल गांधी ने सरकार ने लोगों को कर्ज नहीं बल्कि राहत देने की बात कही। राहुल गांधी ने कहा कि जब बच्चों को चोट पहुंचती है, तो मां उनको कर्जा नहीं देती, बल्कि राहत के लिए तुरंत मदद देती है। कर्ज का पैकेज नहीं होना चाहिए था, बल्कि किसान, मजदूरों की जेब में तुरंत पैसे दिए जाने की आवश्यकता है। तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सीएम योगी को पत्र लिखा। प्रियंका गांधी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर प्रदेश में 1 हजार बसें चलाने की अनुमति मांगी ताकि पैदल चल रहे मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाया जा सके। प्रियंका गांधी ने पत्र में लिखा कि ‘सारे नियमों का पालन करते हुए, पूरी सुरक्षा के साथ हम मजदूरों को घर पहुंचाना चाहते हैं. कोई भी मजदूर सड़क पर पैदल न चले व हादसे में न मारा जाए. पलायन करते हुए बेसहारा प्रवासी श्रमिकों के प्रति कांग्रेस पार्टी अपनी जिम्मेदारी निभाने हुए 500 बसें गाजीपुर बॉर्डर और 500 बसें नोएडा बॉर्डर से चलाना चाहती है.’…बसों का पूरा खर्चा कांग्रेस कमेटी वहन करेगी। प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए हम 1000 बसों को चलाने की आपसे अनुमति चाहते हैं। राष्ट्र निर्माता मजदूर को इस तरह नहीं छोड़ा जा सकता। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी इनकी मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। आशा है आपसे इस प्रयास में हमारा सहयोग करेंगे। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के इस एक्शन के बाद अब देखना ये है कि केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की योगी सरकार क्या जवाब देती है। क्योंकि कांग्रेस ने अब गेंद बीजेपी का पाले में फेंक दी है।
सुधा साव

Facebook Comments