March 9, 2021

आखिर क्यों हुआ बीजेपी के दो सांसद पर केस दर्ज

पूरा देश अभी ऐसी ही कोरोना वायरस महासंकट से ग्रस्त है मगर इन नेता लोग की इस समय भी एक दूसरे पे तंज कसने से पीछे नी रहते। कोई ना कोई वाद विवाद करते रहते है एक दूसरे पे आरोप लगाते रहते है ये लोग क्या इस कोरोना महामारी संकट मे मदद करेंगे?
पश्चिम बंगाल के भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सासंद लॉकेट चटर्जी और अर्जुन सिंह पर चांदनगर पुलिस कमिश्नरी में केस दर्ज किया गया है. दोनों सासंदों पर आरोप है कि कथित तौर पर उन्होंने हुगली जिले के तेलीनिपारा इलाके में हिंसा भड़काई थी.।
सांसदों पर हिंसा भड़काने का लगा आरोप
पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी के दो सासंद लॉकेट चटर्जी और अर्जुन सिंह पर हिंसा भड़काने का आरोप लगा है. सांसदों पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर हुगली जिले के तेलीनिपारा गांव में हिंसा भड़काई है
दरअसल तेलीनिपारा गांव में दो समुदाय एक-दूसरे के आमने-सामने आ गए थे. बीते सप्ताह तेलीनिपारा गांव में एक समुदाय ने दूसरे समुदाय को तंज भरे। लहजे में कोरोना कहकर संबोधित किया था. इसके बाद दोनों पक्षों में भिड़ंत हो गई थी. इस दौरान बम फेंके जाने की खबर सामने आई थी.l
जिसके बाद सांसदों के खिलाफ चांदनगर पुलिस कमिश्नरेट में मामला दर्ज हो गया जिसमे . दोनों सांसदों को एक नोटिस भी जारी किया गया है जिसमें कहा गया है कि इस मामले में सांसद को 22 मई को पेश होना होगा.। 12 बजे उनसे हिंसा मामले में पूछताछ की जाएगी. बता दे कि ये नोटिस इंस्पेक्टर ऑफ पुलिस सौरव बंधोपाध्याय की ओर जारी किया गया है.
कोरोना काल और चुनावी साल….ममता बनाम केंद्र का अखाड़ा बना बंगाल
दो पक्षों में हुई थी हिंसक झड़प
सूत्रों से पता चला की तेलीनिपारा और इसके आस-पास के चंदननगर और श्रीरामपुर इलाकों में बम फेंके गए और दुकानों में तोड़फोड़ की गई, जिसके बाद पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए उपद्रवियों पर लाठीचार्ज कर दिया घटना के संबंध में कम से कम 129 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस को ओर से जारी नोटिस
हिंसा प्रभावित इलाके में लगी थी धारा 144
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पिछले सप्ताह कहा था कि झड़पों में शामिल किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इस झड़प के बाद हुगली जिले में सीआरपीसी की धारा 144 लगानी पड़ गई थी. फिलहाल इलाके में मामला शांत है. अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई थीं.।
फिलहाल स्थिति नियंत्रण में
पुलिस का कहना है कि मंगलवार से ही इलाके में झड़प की कोई खबर सामने नहीं आई है. स्थिति नियंत्रण में है. अब इंटरनेट सेवाएं भी चालू कर दी गई हैं. लॉकडाउन के प्रोटोकॉल के भीतर ही शुक्रवार को जुमे की नमाज भी पढ़ी गई थी. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल भी रखा गया. पुलिस का कहना है कि स्थिति नियंत्रण में होने के बावजूद हिंसा प्रभावित इलाके में सख्ती जारी रहेगी. कुछ इलाकों में अब भी इंटरनेट सेवाएं रोकी गई हैं.।
प्रिया झा

Facebook Comments